इस ब्लॉग से मेरी अनुमति के बिना

कोई भी रचना कहीं पर भी प्रकाशित न करें।

Tuesday, 23 April 2013


                   लड़की 


पिता की अंगुली पकड़ कर चलने वाली लड़की 

देखते - देखते सयानी हो जाती है 
अपने निवाला का फ़िक्र छोड़कर 
पिता की दवाई का खर्च उठाने लगती है ।
माँ ने जब से बिस्तर पकड़ा है 
रसोई को करीने से सजाने की जिम्मेवारी 
भी वह उठाने लगी है 
अपना सोलहवां वसंत देखने से पहले ही 
वह बड़ी हो जाती है ।
घर के पुराने सामान जैसे बिकते हैं 
वह भी एक दिन बेच दी जाती है ।
पति की छाया बन कर चलने वाली लड़की 
अपने सुगढ़ स्पर्श से 
एक मकान को घर बना देती है 
रोटी की सौंधी खुशबू से लेकर 
बैठक में रखे रजनीगंधा की तरह 
वह महकती  रहती है।
सुबह की शुरुवात उससे होती है 
दिन भर चक्कर घुरनी की तरह घुमती 
रात को बिस्तर पे जाने वाली 
वह अंतिम प्राणी होती है  
एक लड़की कहाँ नहीं बसती है ?
 कमरे के कोने - कोने से लेकर 
फिजाओं में जहां तक नज़र जाए 
वह ही वह होती है ।
अपने बच्चों में जान बसाने वाली लड़की 
एक दिन उसके रहमो करम की मोहताज़ हो जाती है ।
अपनी सुध गवां कर 
बेटे - बहू की सेवा में 
अहर्निश जुड़ी रहती है 
तब घर की रानी सबसे संकीर्ण 
कमरे में ठेल दी जाती है 
उसी एक पुराने सामान की तरह 
जो अपनी अहमियत खो बैठा है ।
जिम्मेदारियों तले पिस - पिस कर 
जीने वाली लड़की 
जानती है कि  वह है ,तो घर है ।
काश ऐसी पहचान उन सबमें होती 
जिनसे वह बेटी ,पत्नी और माँ 
के रूपों में जुड़ी होती है ।

7 comments:

  1. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  2. स्त्री के जीवन को निरुपित करती एक अच्छी कविता , बेच दी जाती है ...वाली पंक्ति इस कविता के लिए अनुपयुक्त लग रही है !

    ReplyDelete
  3. लड़की के जीवन का सच , पर यह सच का कारण समाज ,उसके रीती रिवाज
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post बे-शरम दरिंदें !
    latest post सजा कैसा हो ?

    ReplyDelete
  4. ek stri ki kahani ko bakhubi se byan kiya....:)

    ReplyDelete
  5. जिम्मेदारियों तले पिस - पिस कर
    जीने वाली लड़की
    जानती है कि वह है ,तो घर है ।
    काश ऐसी पहचान उन सबमें होती
    जिनसे वह बेटी ,पत्नी और माँ
    के रूपों में जुड़ी होती है ।
    ..बस यही काश बहुत अखरता है ....
    ..बहुत प्रेरक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  6. बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete